Hindi Questions For DSSSB Exam : 12th June 2018 (Solutions)

Hindi Questions For CTET 2017 Exam

निर्देश (1 से 5) :  निम्नलिखित प्रश्नों में एक शब्द दिया गया है तथा उसके चार विकल्प दिए गए हैं. आपको दिए गए विकल्पों में से शब्द के लिए विपरीतार्थक शब्द का चयन करना है. तथा उत्तर अंकित करना है.

Q1. ज्ञान
(a) विज्ञान
(b) अज्ञान
(c) संज्ञान
(d) परिज्ञान
S1. Ans.(b)

Q2. ज्ञेय 
(a) अनबूझ
(b) अज्ञेय
(c) नासमझ
(d) विज्ञेय
S2. Ans.(b)

Q3. ज्येष्ठ
(a) कनिष्ठ
(b) लघु
(c) अल्प
(d) मोटा
S3. Ans.(a)

Q4. ज्योतिर्मय
(a) श्याममय
(b) कालिमायुक्त
(c) अंधकारमय
(d) धुंधयुक्त
S4. Ans.(c)

Q5. जटिल 
(a) सज्जन
(b) जर्जर
(c) सरल
(d) सीधा
S5. Ans.(c)


निर्देश (6 से 10) :  निम्नलिखित प्रश्नों में गद्यांशों पर आधारित प्रश्न दिए गए हैं। गद्यांशों को ध्यान से पढ़िए तथा प्रत्येक प्रश्न के उत्तर के लिए दिए गए चार विकल्पों में से उचित विकल्प का चयन कीजिए।

          प्रत्येक युग के महान विचारकों ने धन-संग्रह की प्रवृत्ति की निदा की है। धन को इसलिए हेय दृष्टि से देखा जाता है कि गर्व, आलस्य तथा अन्य अवगुण इसका अनुसरण करते हैं। निस्सन्देह हम सामान्यतः यह देखते हैं कि मनुष्य जितना ही धनी होता है उतना ही पुण्य अथवा श्रेष्ठ कार्यों से दूर रहता है। किन्तु सूक्ष्म निरीक्षण करने पर हम पाएंगे कि धन स्वयं में दोषपूर्ण नहीं है। वस्तुतः धन के अनुचित प्रयोग की ही निदा की जानी चाहिए। हमारा कर्त्तव्य है कि हम जन-कल्याण के लिए सम्पत्ति-दान करके समाज के प्रति सत्यनिष्ठ रहे। यदि हम अपने देश के पूर्ण विकास के इच्छुक हैं तो केवल निजी लाभों को दृष्टि में नहीं रखा जाना चाहिए।

Q6. धन-संग्रह की प्रवृत्ति निन्दनीय है क्योंकि अधिक धन
(a) मनुष्य को लोभी बनाता है
(b) अभिमान, आलस्य और अन्य अवगुणों को जन्म देता है
(c) अपने कर्त्तव्य से दूर करता है
(d) जीवन को कष्टमय बनाता है
S6. Ans.(b)

Q7. धन-संचय दोष न होकर दोष है धन का
(a) दुरुपयोग
(b) अत्यधिक लोभ
(c) व्यक्तिगत कार्यां के लिए उपयोग
(d) तिरस्कार
S7. Ans.(a)

Q8. धन का उचित उपयोग करने के लिए हमें चाहिए
(a) निजी लाभ की ओर ध्यान देना
(b) अर्जित सम्पत्ति दान में दे देना
(c) समाज-हित को सर्वापरि समझना
(d) जनकल्याण के लिए सम्पत्ति-दान के साथ समाज के प्रति निष्ठावान् होना
S8. Ans.(d)

Q9. श्रेष्ठ कार्यां से व्यक्ति दूर होने लगता है, जब वह
(a) अकिंचन हो जाता है
(b) पाप कर्मों की ओर प्रवृत्त हो जाता है
(c) अधिक धनी होता जाता है
(d) वास्तविक लक्ष्य को विस्मृत कर बैठता है
S9. Ans.(c)

Q10. इस अवतरण का सर्वाधिक उपयुक्त शीर्षक हो सकता है
(a) धन-संग्रह
(b) जीवन के लिए धन
(c) धन का समुचित उपयोग
(d) धन की महत्ता
S10. Ans.(c)