CTET/UPTET 2019 Exam - Previous Year Hindi Questions | 2nd December 2019




हिंदी भाषा TET परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है इस भाग को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है .बस आपको जरुरत है तो बस एकाग्रता की. ये खंड न सिर्फ CTET Exam (परीक्षा) में एहम भूमिका निभाता है अपितु दूसरी परीक्षाओं जैसे UPTETKVS ,NVSDSSSB आदि में भी रहता है, तो इस खंड में आपकी पकड़, आपकी सफलता में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकती है.TEACHERSADDA आपके इस चुनौतीपूर्ण सफ़र में हर कदम पर आपके साथ है।


निर्देश : नीचे दिए गए अनुच्छेद को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों | (प्रश्न सं० 1-7) के सही/सबसे उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प को चुनिए।

हेवल घाटी के गाँववासियों ने चीड़ के पेड़ों के हो रहे विनाश के विरुद्ध जुलूस निकाले। घास-चारा लेने जा रही महिलाओं ने इन पेड़ों से लीसा टपकाने के लिए लगाए गए लोहे निकाल दिए व उनके स्थान पर मिट्टी की मरहम-पट्टी कर दी। महिलाओं ने पेड़ों का रक्षा-बंधन भी किया। आरंभ से ही लगा कि वृक्ष बचाने में महिलाएँ आगे आएँगी। वन कटने का सबसे अधिक कष्ट उन्हीं को उठाना पड़ता है, क्योंकि घास-चारा लाने के लिए उन्हें और दूर जाना पड़ता है। कठिन स्थानों से घास-चारा एकत्र करने में कई बार उन्हें बहुत चोट लग जाती है। वैसे भी पहाड़ी रास्तों पर घास-चारे का बोझ लेकर पाँच-दस कि० मी० या उससे भी ज़्यादा चलना बहुत कठिन हो जाता है। इस आंदोलन की बात ऊँचे अधिकारियों तक पहुँची तो उन्हें लीसा प्राप्त करने के तौर-तरीकों की जाँच करवानी पड़ी। जाँच से स्पष्ट हो गया कि बहुत अधिक लीसा निकालने के लालच में चीड़ के पेड़ों को बहुत नुकसान हुआ है। इन अनुचित तरीकों पर रोक लगी। चीड़ के घायल पेड़ों को आराम मिला, एक नया जीवन मिला। पर तभी खबर मिली कि इस इलाके के बहुत से पेड़ों को कटाई के लिए नीलाम किया जा रहा है। लोगों ने पहले तो अधिकारियों को ज्ञापन दिया कि जहाँ पहले से ही घास-चारे का संकट है, वहाँ और व्यापारिक कटान न किया जाए। जब अधिकारियों | ने गाँववासियों की माँग पर ध्यान न देते हुए नरेंद्रनगर में नीलामी की घोषणा कर दी, तो गाँववासी जुलुस बनाकर वहाँ नीलामी का विरोध करते हुए पहुँच गए। वहाँ एकत्र ठेकेदारों से हेंवल घाटी की महिलाओं ने कहा, “आप इन पेड़ों को काटकर हमारी रोज़ी-रोटी मत छीनो। पेड़ कटने से यहाँ बाढ़ व भू-स्खलन का खतरा भी बढ़ जाएगा।' कुछ ठेकेदारों ने तो वास्तव में वह बात मानी पर कुछ अन्य ठेकेदारों ने अद्द्वानी और सलेत के जंगल खरीद लिए। 

Q1. हॅवल घाटी में किन पेड़ों के होने वाले विनाश के विरुद्ध जुलूस निकाले गए? 

(a) देवदार 
(b) चीड़ 
(c) पीपल 
(d) आम

Q2. महिलाओं ने पेड़ों का रक्षा-बंधन क्यों किया?

(a) यह उस घाटी की रस्म थी 
(b) पेड़ों को सुंदर बनाने के लिए 
(c) उनकी मरहम-पट्टी करने के लिए
(d) पेड़ों को बचाने के लिए 

Q3. वन काटने का सबसे अधिक कष्ट महिलाओं को क्यों उठाना पड़ता है? 

(a) केवल उन्हें ही वन से प्रेम था 
(b) उन्हें चारा लाने के लिए दूर जाना पड़ता है 
(c) उन्हें वनों की घनी छाया नहीं मिलती
(d) उन्हें वनों से लीसा नहीं मिलता 

Q4. चीड़ के पेड़ों को किससे बहुत नुकसान हो रहा था?

(a) बहुत ऊँचे अधिकारियों से 
(b) अधिक घास-चारा लाने से 
(c) बहुत अधिक लीसा निकालने से
(d) कुछ ठेकेदारों से 

Q5. पेड़ कटने से किसका खतरा बढ़ जाएगा?

(a) बाढ़ और लकड़ी का 
(b) भू-स्खलन और बाढ़ का 
(c) भू-स्खलन और लकड़ी का
(d) लकड़ी और चारे का 

Q6. ‘रोज़ी-रोटी' शब्द है

(a) संज्ञा 
(b) सर्वनाम 
(c) विशेषण
(d) शब्द-युग्म 

Q7. “कुछ ठेकेदारों ने तो वास्तव में वह बात मानी” वाक्य में निपात है

(a) कुछ 
(b) ने 
(c) तो 
(d) वह

Q8. भाषा सीखने-सिखाने की प्रक्रिया में सबसे कम महत्त्वपूर्ण है

(a) भाषा की पाठ्य-पुस्तक 
(b) भाषा का आकलन 
(c) भाषा-शिक्षण की पद्धति 
(d) भाषा का परिवेश

Q9 भाषा शिक्षक के लिए ज़रूरी है कि वे भारतीय भाषाओं की _______ को स्वीकार करें और समृद्ध साहित्य को ______की दृष्टि से देखें। 

(a) जटिलताओं, साहित्यिक
(b) विषमताओं, सराहना 
(c) विविधता, सराहना
(d) सराहना, विविधता

Q10. पहली कक्षा के बच्चों के साथ कविता गायन के बाद आप क्या करेंगे? 

(a) बच्चों से कहेंगे कि वे सुनी हुई कविता को शब्दशः सुनाएँ 
(b) बच्चों से कविता पर आधारित प्रश्न पूछेगे 
(c) बच्चों को कविता में आए पाँच शब्द बताने के लिए कहेंगे 
(d) बच्चों से कहेंगे कि वे अपनी भाषा में अपनी पसंद की कोई कविता सुनाएँ




Solutions




S1. Ans.(b)

S2. Ans.(d)

S3. Ans.(b)

S4. Ans.(c)

S5. Ans.(b)

S6. Ans.(d)

S7. Ans.(c)

S8. Ans.(a)

S9. Ans.(c)

S10. Ans.(d)






No comments