UPTET/ NVS 2019 Exam - Practice Hindi Questions Now | 10th September 2019



हिंदी भाषा TET परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है इस भाग को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है .बस आपको जरुरत है तो बस एकाग्रता की. ये खंड न सिर्फ CTET Exam (परीक्षा) में एहम भूमिका निभाता है अपितु दूसरी परीक्षाओं जैसे UPTET, KVS,NVS DSSSB आदि में भी रहता है, तो इस खंड में आपकी पकड़, आपकी सफलता में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकती है.TEACHERS ADDA आपके इस चुनौतीपूर्ण सफ़र में हर कदम पर आपके साथ है।


निर्देश (1-6): निम्न पद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिएः

उपयुक्त उस खल को न यद्यापि मृत्यु का भी दण्ड है,
पर मृत्यु से बढ़कर न जग में दण्ड और प्रचण्ड है।
अतएव कल उस नीच को रण-मध्य जो मारूँ न मैं,
तो सत्य कहता हूँ कभी शस्त्रास्त्र फिर धारूँ न मैं।

अथवा अधिक कहना वृथा है, पार्थ का प्रण है यही,
साक्षी रहे सुन ये बचन रवि, शशि, अनल, अम्बर, मही।
सूर्यास्त से पहले न जो मैं कल जयद्रथ-वध करूँ,
तो शपथ करता हूँ स्वयं मैं ही अनल में जल मरूँ।

Q1. ‘खल’ शब्द का विपरीतार्थक है

(a) नायक
(b) दुष्ट प्रवृत्ति का
(c) योद्धा
(d) दण्ड

Q2. ‘कभी शस्त्रास्त्र फिर धारूँ न मैं’ पंक्ति का भावार्थ है

(a) युद्ध न करना
(b) राजभवन में बैठना
(c) आत्मदाह करना
(d) क्षत्रिय धर्म का त्याग

Q3. ‘वृथा’ शब्द का समानार्थक है

(a) उचित
(b) व्यर्थ
(c) पाप
(d) प्रण

Q4. पार्थ की क्या प्रतिज्ञा है?

(a) दुष्ट को मारने की
(b) जयद्रथ-वध करने की
(c) अस्त्र-शस्त्र धारण करने की
(d) आग में जलाकर मारने की

Q5. रवि, शशि, अनल, अम्बर एवं मही के वर्यायवाची क्रमशः हैं

(a) सूर्य, रात्रि, वायु, आकाश, पाताल
(b) सूर्य, चन्द्रमा, वायु, आकाश, पाताल
(c) सूर्य, रात्रि, अग्नि, आकाश, पाताल
(d) सूर्य, चन्द्रमा, अग्नि, आकाश, पृथ्वी

Q6. जयद्रथ को युद्ध-क्षेत्र के मध्य न मारने पर पार्थ क्या शपथ लेता है?

(a) जल में मरने की
(b) मृत्युदण्ड की
(c) आत्मदाह करने की
(d) इनमें से कोई नहीं

Q7. जिस विकारी शब्द से संज्ञा की व्याप्ति मर्यादित होती है, उसे कहते हैं-

(a) सर्वनाम
(b) विशेषण
(c) क्रिया
(d) अव्यय

Q8. ‘रमेश की पुस्तक पुरानी है’-इस वाक्य में ‘पुस्तक’ शब्द है-

(a) विशेष्य
(b) विशेषण
(c) क्रिया-विशेषण
(d) सर्वनाम

Q9. ‘उस ग्रंथ में 500 पृष्ठ हैं’-इस वाक्य में ‘उस’ शब्द है-

(a) गुणवाचक विशेषण
(b) परिमाणवाचक विशेषण
(c) संकेतवाचक विशेषण
(d) व्यक्तिवाचक विशेषण

Q10. ‘यह चाँदी खोटी सी दिखती है’-इस वाक्य में ‘खोटी सी’ विशेषण का प्रकार है-

(a) गुणवाचक विशेषण
(b) संख्यावाचक विशेषण
(c) परिमाणबोधक विशेषण
(d) पूर्णांकबोधक विशेषण





Solutions



S1. Ans.(a)

Sol.



S2. Ans.(a)

Sol.



S3. Ans.(b)

Sol.



S4. Ans.(b)

Sol.



S5. Ans.(d)

Sol.



S6. Ans.(c)

Sol.



S7. Ans.(b)

Sol. व्याख्या- जिस विकारी शब्द से संज्ञा की व्याप्ति मर्यादित (सीमित) होती है, उसे विशेषण कहते हैं।



S8. Ans.(a)

Sol. व्याख्या- प्रस्तुत वाक्य में ‘पुस्तक’ विशेष्य है क्योंकि पुस्तक की विशेषता ‘पुरानी’ विशेषण को इंगित करती है।



S9. Ans.(c)

Sol. व्याख्या- प्रस्तुत वाक्य में ‘उस’ शब्द संकेतवाचक विशेषण (सार्वनामिक विशेषण) है।



S10. Ans.(a)

Sol. व्याख्या- ‘खोटी सी’ में गुणवाचक विशेषण है। गुणवाचक विशेषणों में ‘सा’ अथवा ‘सी’ आदृश्यमूलक पद जोड़कर गुणों को कम किया जाता है।




You can also learn Hindi with our Youtube Channel, Watch Now:











No comments